तसल्ली होती है हमारे दील को,की चलो कोई तो है अपना, जो हर वक़्त याद आता है.जुल्फों को फैला कर जब कोई महबूबा किसी आशिक की कब्र पर रोती है …ज… Read More


एक तेरा ही तो नाम था जिसे हज़ार बार लिखा,उसे क्या मिटायेंगी गर्दिशे जमाने की…..समुन्दर से कह दो, अपनी लहरों को समेट के रखे,मर जायंगे तुम… Read More


थक गया हूँ मै, खुद को साबित करते करते, दोस्तों..There are various gurus that make rehearse from a few years. The siddi of it's not an easy job. An extra normal man or woman has capability to accomplished the study. The wrongs deeds had been contain with the bane of humanity.इ… Read More